During the current Covid-19 outbreak, our top priorities are safety of our employees, our customers and the community.
While we have ensured maximum possible precautionary measures at our end, customers are requested to take all possible precautions after receiving the packets.
Delivery schedules are impacted due to the current pandemic situation.
Hence please expect several hours of delay in delivery of your orders.
All orders will carry a shipping charge depending on the weight of the packets.
You can view the applicable shipping charge before you confirm your order.
Stay Safe, Stay Home and keep reading!
More about the Book
Important:

Please ensure the condition of the book by checking the general quality guidelines


Krishna Kali

Publisher : Bharatiya Gyanpith

Quality : Used - Good  

Pages : 219

Format: Paperback

Category : Indian Language Books - Hindi

New Book List Price: 199.00

Used Book Price : Rs.75

You Save: Rs.124

Book Summary

ऐसा कभी कभी ही होता है कि कोई कृति पुस्तक का आकार लेने भी न पाये किन्तु अपनी प्रसिद्धि से साहित्य-जगत् को चौंका दे। ‘कृष्णकली’ के साथ ऐसा ही हुआ है। कौन है यह कृष्णकली? सौन्दर्य और कौमार्य की अग्निशिखा से मण्डित एक ऐसा नारी-व्यक्तित्व जो शिवानी की लौह-संकल्पिनी मानस-संतान है, एक अद्भुत चरित्र जो अपनी जन्मजात ग्लानि और अपावनकता की कर्दम में से प्रस्फुटित होकर कमल सा फूलता है, सौरभ-सा महकता है और मादक पराग सा अपने सारे परिवेश को मोहाच्छन्न कर देता है। नये-नये अनुभवों के कण्टकाकीर्ण पथों से गुजरती और काजल की कोठरियों में रहती-सहती यह विद्रोहिणी समाज की वर्जनाओं का वरण करती है किन्तु फिर भी अपनी सहज संस्कारशीलता को छटक नहीं पाती। कृष्णकली ने न कभी हारना, न झुकना, उससे टूटना भले ही स्वीकारा। कृष्णकली का क्या हुआ, जो हुआ वह क्यों हुआ - इन प्रश्नों के समाधान में अनेकानेक पाठकों की विकलता लेखिका ने अत्यन्त निकट से देखी-जानी है...
प्रख्यात कथाकार शिवानी के उपन्यास ‘कृष्णकली’ को हिन्दी के पाठकों से जो आदर-मान मिला है, वह निःसन्देह दुर्लभ है! प्रस्तुत है, उपन्यास का यह नवीनतम संस्करण